rss full form

आरएसएस (RSS) का फुल फॉर्म “Rashtriya Swayamsevak Sangh” है हिंदी में इसका नाम “राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ” है यह एक गैर सरकारी भारतीय संगठन है | यह एक हिन्दू राष्ट्रवादी संगठन है |

इसका निर्माण हिंदुत्व के हितो के लिए किया गया है | इसका मूल आधार हिन्दू धर्म है | यह अर्धसैनिक स्वयंसेवक संगठन के रूप में कार्य करता है | हिन्दू समाज के लोगो द्वारा इसे सहायता प्राप्त होती है |

आरएसएस का मतलब क्या होता है (RSS MEANING)

आरएसएस विश्व का सबसे बड़ा स्वयंसेवी संगठन है | आरएसएस एक अभियान और एक स्वयंसेवक मंच है जिसका उद्देश्य देश में सामाजिक, आर्थिक, नागरिक, पर्यावरण और अन्य चुनौतियों का समाधान करना है | इसके द्वारा किये गए कार्य अच्छा स्वास्थ्य, व्यावसायिक प्रशिक्षण,शिक्षा, नागरिक मुद्दों, पर्यावरण,गौ रक्षा, ग्रामीण विकास,सांस्कृतिक और साहित्यिक विकास और सड़क से सम्बंधित है | यह इन कार्यों के लिए नयी योजनाओं का निर्माण करता है और उसको लागू करवाने का प्रयास करती है |

इसके द्वारा देश हित में कार्य किये जाते है | जब भारत सरकार देश हित में कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेती है, तो यह सदैव सरकार के पक्ष में रहता है और देश हित में न होने पर यह सरकार का पूरा विरोध करता है | इसका उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में हिन्दुओं को सम्मानजनक जीवन जीने के लिए पर्याप्त अधिकार दिलाना है |

आरएसएस की स्थापना (ESTABLISHMENT OF RSS)

rss full form

आरएसएस एक संगठन है इसकी स्थापना 27 सितम्बर वर्ष 1925 को केशव बलिराम हेडदेवार ने की थी | इस संगठन के द्वारा विजयादशमी का त्योहार बड़े हर्षोल्लास से मनाया जाता है, क्योंकि इसकी स्थापना विजयादशमी के दिन की गयी थी | आरएसएस का मुख्यालय भारत के नागपुर शहर में है, नागपुर शहर महाराष्ट्र में स्थित है | इस संगठन में सम्मिलित होने के लिए किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाता है | इसकी सदस्यता लेना बहुत ही आसान है | इस संगठन में अठारह वर्ष से कम उम्र के बच्चों को प्रारम्भ से ही देश भक्ति की भावना और विचारों को अपनाने पर बल दिया जाता है |

इसके द्वारा बाल भारती और बालगोकुल कार्यक्रम संचालन किया जाता है | विश्व विद्यालयों में भी छात्रों को आकर्षित करने के लिए कार्यक्रमों का आयोजन किया जाते है | इन छात्रों को देश भक्ति और देश के लिए कार्य करने के लिए अवसर प्रदान किये जाते है | यदि कोई व्यक्ति इस संगठन से जुड़ना चाहते तो वह आसानी से इसका भाग बन सकता है | आप इसकी प्रतिदिन, साप्ताहिक और हर महीने की गतिविधियों में शामिल हो कर इसका हिस्सा बन सकते है | इस संगठन की शाखाएं आपको हर क्षेत्र, विभाग, जिले, प्रदेश और केंद्र पर आसानी से मिल जाएगी |

आरएसएस का इतिहास (RSS HISTORY)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक केशव बलराम हेडगेवार है | इस संगठन का मुख्य मुख्य लक्ष्य भारत को हिंदू राष्ट्र के रूप में स्थापित करना है | इसके गठन के समय इसके मात्र 17 सदस्य थे | वर्तमान समय में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के करोड़ों की संख्या में सदस्य है | इसका नामकरण 17 अप्रैल 1926 को ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ’ के रूप में किया गया था |

स्थापना के समय संघ के सदस्य हेडगेवार के साथ विश्वनाथ केलकर, भाऊजी कावरे, अन्ना साहने, बालाजी हुद्दार, बापूराव भेदी थे | यह इस संगठन के सबसे प्रमुख व्यक्ति थे जिन्होंने इसको आगे बढ़ाने की रूप रेखा तैयार की थी | आजकल आरएसएस मोहन भागवत जी के नेतृत्त में काम कर रही है ,आज के समय में यह संगठन विश्व का सबसे बड़ा संगठन है |

स्थापना के उपरांत हेडगेवार ने महात्मा गाँधी जी का प्रस्ताव मुसलमानों के साथ मिलकर लड़ने को ठुकरा दिया गया था | आजादी के समय इस संगठन के द्वारा बढ़- चढ़ कर भाग लिया गया और अंग्रेजों से डट कर मुकाबला किया था |

By admin